अर्क/ कुम्भ विवाह

अर्क/ कुम्भ विवाह

अर्क एवं कुम्भ विवाह – जिनकी जन्म कुंडली में वेदन्या दोष रहता है, उस दोष की निवृत्ति इसलिए कराइ जाती है, क्योंकी उस दोष में दो या दो से अधिक विवाह के योग होते हैं । वेदन्या दोष यदि लड़के की जन्म पत्रिका में कुछ ग्रहो की स्थिति से पाया जाता है तो इसकी निवृत्ति के लिए अर्क विवाह कराकर नवग्रहों की शांति करना होता है, यदि यही दोष लड़की की जन्म पत्रिका में कुछ ग्रहो की स्थिति से पाया जाता है तो इसकी निवृत्ति के लिए कुम्भ विवाह नवग्रहों की शांति करना होता है ।